Radiotherapy in Hindi | रेडियोथेरेपी क्या है, फायदे और नुकसान

Radiotherapy in Hindi (रेडियोथेरेपी क्या है) – रेडियोथेरेपी या रेडिएशन थेरेपी से कैंसर का उपचार किया जाता है. रेडिएशन थेरेपी का ट्यूमर पर सीधा असर होता है. रेडियोथेरेपी की मदद से बॉडी में कैंसर के सेल्स और ट्यूमर को खत्म किया जाता है. कैंसर के इलाज में रेडियोथेरेपी का बड़ा योगदान है. आज हम आपको रेडियोथेरेपी क्या है और रेडियोथेरेपी के फायदे और नुकसान के बारे में बताने वाले है.

Radiotherapy in Hindi, Radiotherapy Ke Fayde Aur Nuksan

रेडियोथेरेपी क्या है | Radiotherapy Kya Hai

रेडियो थेरेपी में रेडियो तरंगों का इस्तेमाल कैंसर तथा ट्यूमर को ठीक करने के लिए किया जाता है. जिन रेडियो तरंगों का इस्तेमाल किया जाता है वो उच्च उर्जा वाली आयनीकरण विकिरण (Ionizing Radiation) नामक तरंगे होती है. आसान शब्दों में समझाया जाये तो यह रेडिएशन कैंसर सेल्स (Cells) के DNA को इस तरह खंडित करती है की उनका विभाजन तथा विकास बंद हो जाता है तथा कोशिकाएं (Cells) नष्ट हो जाती है. इस रेडियोथेरेपी का इस्तेमाल कीमोथेरेपी आदि जैसे अन्य उपचार के साथ किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें : कीमोथेरेपी क्या है, फायदे और नुकसान

रेडिएशन थेरेपी के रूप | Forms of Radiation Therapy in Hindi

एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी – इस थेरेपी में मशीन की सहायता से उपचार वाले स्थान पर बाहर से किरणों को केंद्रित किया जाता है.

इंटरनल रेडिएशन थेरेपी – इसमें एक रेडियोएक्टिव पदार्थ बॉडी के भीतर कैंसर से प्रभावित टिशू के पास थोड़े समय या लम्बे समय के लिए रखा जाता है.

वैसे तो एक्सटर्नल बीम रेडिएशन थेरेपी का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. पर जब कैंसर से प्रभावित टिशू के आसपास के सही सेल्स को नुकसान से बचाना हो तो इंटरनल रेडिएशन थेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है.

रेडियोथेरेपी के फायदे | Radiotherapy Benefits in Hindi

कैंसर की वृद्धि रोके – रेडियोथेरेपी की मदद से कैंसर की वृद्धि को रोकने में मदद मिलती है.

कम समय लगता है – इलाज का प्रत्येक चरण दस से तीस मिनट का होता है तथा आपको अस्पताल में रुकना नहीं पड़ता.

सामान्य जीवनशैली – आप चाहे तो सामान्य जीवनशैली को जारी रख सकते है जैसे अपने काम पर जाना आदि.

रेडियोथेरेपी के नुकसान | Radiotherapy Side Effects in Hindi

रेडियोथेरेपी का हर इंसान पर अलग प्रभाव हो सकता है. इलाज के समय आपको निम्न प्रभाव महसूस हो सकते है.

बाल झड़ना – बाल झड़ने की समस्या बॉडी के उसी हिस्से में होती है जहां पर इलाज किया जाता है. अगर आपके सिर का इलाज हो रहा है तो सिर के बाल झड़ने की समस्या हो सकती है तथा अगर आपके छाती का इलाज हो रहा है तो छाती के बाल झड़ने की समस्या होगी.

गले तथा मुंह में छाले – मुंह और गले में छाले होने की समस्या तब होती है जब इलाज मुंह तथा गले के आस-पास किया जा रहा हो.

दस्त – आपको दस्त की समस्या हो सकती है. दस्त होने पर चिकित्सक को बताये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *