Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi | जानिए प्रेग्नेंट कैसे होते है

Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi, Symptoms of Pregnancy, Pregnancy Prevention in Hindi

Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi ( प्रेग्नेंट केसे होते है ) – जब भी महिला और पुरुष आपस में शारीरिक संबंध बनाते है तो उनके मन में प्रेगनेंसी को लेकर कई तरह के सवाल रहते है जैसे प्रेग्नेंट केसे होते है, प्रेगनेंसी के लक्षण क्या है या फिर प्रेगनेंसी से कैसे बचे. इस लेख के जरिये हम आपको प्रेगनेंसी से जुड़ी संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश करेंगे. जिसे पढ़ने के बाद आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल नही रहेगा. तो चलिए जानते है Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi / How to Get Pregnant Fast Tips in Hindi

Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi, Symptoms of Pregnancy, Pregnancy Prevention in Hindi

प्रेग्नेंट कैसे होते है | Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi

Pregnant in Hindi Jankari जब एक पुरुष और महिला आपस में यौन सम्बन्ध बनाते है उसके बाद महिला के अंडाशय में पुरुष के शुक्राणु व् महिला के अंडे मिलकर निषेचित होकर महिला के गर्भ में भ्रूण (Embryo) का निर्माण करते है. इसको प्रेगनेंसी कहा जाता है. प्रेगनेंसी को दूसरे शब्दों में Gestation भी कहते है.

लडकियो के Menstrual ग्यारह से चौदह साल की उम्र के बीच में शुरू होते है. इसके बाद लड़कियों के शरीर में अनेक तरह के हार्मोन रिलीज़ होने लगते है. उसके बाद ही लड़कियों का गर्भाशय बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार होता है. Menstrual शुरू होने के बाद अपने पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाकर कोई भी लड़की प्रेगनेंट हो सकती है.

यह भी पढ़ें : स्तन कैंसर के लक्षण

प्रेगनेंसी के पहले सप्ताह के लक्षण | Symptoms of Pregnancy In First Week in Hindi

Pregnant Hone Ke Lakshan (प्रेग्नेंट होने के लक्षण) शुरुआती हफ्ते में महिलाओं के शरीर के अंदर बहुत से बदलाव होते है लेकिन बाहर से कुछ पता नहीं लगता. एक सवस्थ महिला को हर महीने माहवारी सही समय पर आती है. लेकिन जब महिला गर्भधारण कर लेती है तब उसको माहवारी आना बंद हो जाती है. गर्भधारण के शुरुआत में उल्टी होना, बार – बार पेशाब जाना, जी मचलना भी शामिल है.

मुंह का स्वाद कड़वा होना – पहले हफ्ते में महिला के मुंह का स्वाद कड़वा हो जाता है. उसे किसी भी चीज़ का स्वाद पता नहीं लगता. सिर्फ खट्टा खाना अच्छा लगता है. इसलिए महिलाएं खट्टा खाती है.

मूड सही न रहना – माहवारी के दो हफ्तों के बाद ओवुलेशन का समय शुरू होता है. ये समय गर्भधारण के लिए सही होता है. प्रेग्नेंट होने के बाद हार्मोन परिवर्तित होने लगते है. इनकी वजह से महिला के व्यवहार में उतार – चढाव आने लगता है. हार्मोन बदलने से उनका मूड सही नहीं रहता.

सिर में दर्द – गर्भधारण के बाद सिर में दर्द, थकान की शिकायत अक्सर रहती है. और पैरों में सूजन भी दिखने लगती है.

गर्भधारण के बाद आहार | Diet After Pregnancy in Hindi

Diet Chart for Pregnant Lady in Hindi गर्भधारण के बाद आहार में बदलाव करना काफी जरुरी है गर्भवती महिलाओ को अपने खाने में ऐसे चीजों का सेवन करना चाहिए जो पौष्टिक तत्वों से भरपूर हो.

  • किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए.
  • डॉक्टर से मिलकर अपने डेली रूटीन के बारे में बताएं ताकि डॉक्टर आपको सलाह दे पाए. और आपको आहार में विटामिन और प्रोटीन की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए.
  • फलों और सब्जियों के जूस को अपनी दिनचर्या में शामिल करे.
  • सब्जी – युक्त आमलेट नाश्ता जो आपको प्रोटीन, विटामिन A, B, C और आयरन देता है.
  • ज्यादा दिनों का फ्रिज में रखा हुआ बासी खाना न खाये.
  • ज्यादा गर्म या ज्यादा ठंडी चीजों का सीधा सेवन न करे.

यह भी पढ़ें : विटामिन सी से भरपूर है ये खाद्य पदार्थ

गर्भधारण की प्रक्रिया में पुरुष का योगदान | Role of Men in The Process of Pregnancy in Hindi

Pregnancy Kaise Hoti Hai हम में से लगभग हर किसी को ये बात पता होगी कि जब कोई महिला या लड़की किसी पुरुष के साथ यौन सम्बंध बनाती है तब ही वो प्रेग्नेंट होती है. सम्बन्ध बनने के बाद स्खलित यानि Ejaculation होने पर पुरुष के लिंग से एक तरल पदार्थ निकलता है जो कि महिला की योनि में जाता है. इस तरल पदार्थ को Semen कहते है. इसमें पुरुष के शुक्राणु होते हैं जो महिला की योनि में जाने के बाद महिला के अंडे से निषेचन करके भ्रूण का निर्माण करते हैं.

यह भी पढ़ें : कमजोरी दूर करने के नुस्खे

गर्भधारण की प्रक्रिया में महिला का योगदान | Role of Women in The Process of Pregnancy in Hindi

महिलाओ के अंडाशय में अंडे बनते हैं और मासिक धर्म (Menstrual) को कंट्रोल करने वाले Hormones की वजह से इन अंडों में से कुछ अंडे हर माह तैयार हो जाते है. इसका मतलब यह है कि वे Sperm Cells के साथ निषेचित होने के लिए तैयार हैं. Hormones की वजह से गर्भाशय की परत स्पंजी और मोटी बनती है और गर्भावस्था के समय बच्चे को सँभालने के लिए तैयार होती है.

Menstrual के बाद एक परिपक्व अंडा महिला के अंडाशय में रह जाता है, यह अंडा Fallopian Tube से गर्भाशय की ओर टहलता रहता है. ये अंडा बारह से चौबीस घंटों तक Fallopian Tube से टहलते हुए आसपास Sperm की तलाश करता है.

जब पुरुष का सीमेन यौनि में गिरता है तो स्पर्म सेल्स (सर्विक्स) गर्भाशय के जरिये Fallopian Tube में तैरती है और वह अंडे को ढूंढ़ती है. गर्भाशय में स्पर्म सेल्स 6 दिनों तक अंडे को ढूंढती है और फिर खत्म हो जाती है.

निषेचन और प्रत्यारोपण की प्रक्रिया | Fertilization and Implantation in Humans in Hindi

इस समय जब अंडा Sperm Cells के स्पर्श में आता है तो स्पर्म कोशिकाएं उसके साथ मिलकर निषेचन की क्रिया करती हैं. लेकिन निषेचन तुरंत नहीं होता है. क्युकी सेक्स के बाद करीब 6 दिनों तक Sperm गर्भाशय और Fallopian Tube में रहता है इसलिए वह इन 6 दिनों के बीच में ही निषेचन करता है.

अगर Sperm Cells अंडे से जुड़ नहीं पाती हैं तो निषेचित अंडा गर्भाशय की ओर Fallopian Tube में चला जाता है. वह यह ज्यादा से ज्यादा कोशिकाओं में बट जाता है और परिपक्व होकर एक Ball बनाता है. Ball Cells जिसे Blastocyst बोलते हैं निषेचन के 3-4 दिनों बाद गर्भाशय में जाता है.

बॉल की कोशिकाएं भी गर्भाशय में 2-3 दिन तक घूमती रहती हैं और जब बॉल की कोशिकाएं गर्भाशय की दीवार की परत से जुड़ जाती हैं तो इस क्रिया को प्रत्यारोपण (Implantation) कहते है. फिर सही मायनों में Pregnancy शुरू होती है.

निषेचित अंडो के गर्भाशय में प्रत्यारोपित हो जाने के बाद प्रेगनेंसी हार्मोन्स स्रावित करते हैं जिससे महिला प्रेग्नेंट हो जाती है और उसका मासिक धर्म (Menstrual) बंद हो जाते है.

यह भी पढ़ें : प्रोस्टेट कैंसर के कारण, लक्षण और बचाव

जल्दी प्रेग्नेंट होने के उपाय | Jaldi Pregnant Hone Ke Tips in Hindi

Pregnant Hone Ke Tips in Hindi जो महिलाएं गर्भधारण की कोशिश कर रही है लेकिन फिर भी उनको गर्भधारण करने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. वो अपनी जीवनशैली में निचे दी गयी बातों को अपनाकर जल्दी प्रेग्नेंट हो सकती है.

जल्दी गर्भवती होने के लिए वजन नियंत्रित करे | Weight Loss Pregnant Hone Ka Tarika in Hindi

ज्यादा वजन होने के कारण कंसीव करने में काफी दिक्कत होती है. ज्यादा वजन होने के कारण महिलाओं के फेलोपियन ट्यूब तथा ओवरी के बंद होने की आशंका बढ़ जाती है. मोटापे की वजह से कई बार महिलाओं की बच्चेदानी में सिस्ट तक हो जाते है.

संभोग करें | Pregnant Hone Ke Upay Sambhog Kare in Hindi

अपने पार्टनर के साथ जितना हो सके उतना सम्भोग करे खासतौर पर डिंबोत्सर्जन की प्रक्रिया के दौरान कई बार संभोग करें.

जल्दी गर्भवती होने के लिए स्वस्थ तथा सेहतमंद आहार | Healthy Food Pregnant Hone Ke Gharelu Nuskhe in Hindi

जल्दी गर्भवती होने के लिए सेहतमंद आहार का सेवन करना बेहद जरुरी है. Iron और Calcium की कमी के कारण कंसीव होने की सम्भावना कम हो जाती है. इसलिए अपनी डाइट में सेहतमंद आहार को जरूर शामिल करें.

गर्भनिरोधक का इस्तेमाल बंद कर दे

गर्भधारण करने से साल भर पहले गर्भनिरोधक का इस्तेमाल करना बंद कर दे. कंस्ट्रासेप्टिव का लगातार इस्तेमाल करने से ऑवुलेशन की प्रक्रिया पर असर पड़ता है तथा गर्भधारण करने में परेशानी होती है.

नशे से दूर रहे

नशा करने से हमारी सेहत पर तो बुरा असर पड़ता ही है साथ ही ये प्रजनन क्षमता पर भी बुरा असर पड़ता है. जितना हो सके नशीली चीज़ों से दूर रहने की कोशिश करे.

यह भी पढ़ें : सिगरेट की लत से छुटकारा पाने के तरीके

प्रेगनेंसी से बचाव | Pregnancy Prevention in Hindi

वैसे तो प्रेग्नेंसी से बचाव के कई तरीके है लेकिन इन सबसे आसान तरीका है कंडोम का इस्तेमाल करना. पुरुषों को यौन सम्बन्ध बनांते समय कंडोम का इस्तेमाल करना चाहिए इसके अलावा आप चाहे तो गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करके भी प्रेग्नन्सी से बच सकते है.

ये थी Pregnant Kaise Hota Hai in Hindi Language/Ladki Pregnant Kaise Hote Hai in Hindi की पूरी जानकारी. उम्मीद है आपको ये जानकारी पसंद आई होगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*